Loading... Please wait...

Our Newsletter


Sangeet Manjusha

  • Image 1
Price:
Rs. 450.00
ISBN:
8170990300
Weight:
0.00 KGS
Shipping:
Calculated at checkout
Quantity:
Bookmark and Share


About the Book

डाॅ. इन्द्राणी चक्रवर्ती ने संगीत शिक्षा के क्षेत्रा में अपनी विशेष व अमिट छाप छोड़ी है। भारत की कनिष्ठतक संगीत अध्यक्षा के रूप में आपने संगीत विभाग, हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय, शिमला में सन 1981 में पदभार सम्भाला और अब तक उसे बखूबी निभा रही है। इस विभाग में एम.फिल. व पीएच.डी. जैसी उच्च शिक्षा का प्रारम्भ कर आपने छात्रों को नई दिशा दी, तथा प्रेरणा की स्रोत बनी। आप संगीत के अध्ययन अध्यापन व प्रयोगपक्ष का गम्भीर चिन्तन तथा मनन करती रहती है। इन्द्र्राणी आकाश्शवाणी तथा दूरदर्शन की नियमित कलाकार है। डाॅ. इन्द्राणी की अनुसन्धानप्रियता के कारण संगीत नाटक अकादमी, दिल्ली, व विश्वविद्यालय अनुदान आयोग, दिल्ली ने इन्हें नवीन खोल क लिए अनुदान दिया है जो संगीत के क्षेत्रा में गौरव का विषय है। गम्भीर चिन्तन व मनन का परिणाम आका शोध ग्रन्थ ‘‘स्वर और रागों के विकास में वाद्यांे का योगदान है’’, जिसके प्रकाशनार्थ संगीत नाटक अकादमी दिल्ली ने अनुदान दिया। निरन्तर प्रवाहमान चिन्तक ने ही ‘संगीत मंजुषा’ को जन्म दिया है, जो संगीत नाटक अकादमी लखनउ, उ.प्र. से अनुदान प्राप्त है। 


Find Similar Products by Category


Write your own product review

Product Reviews

This product hasn't received any reviews yet. Be the first to review this product!


Currency Converter

Choose a currency below to display product prices in the selected currency.

India Default Currency

Add to Wish List

Click the button below to add the Sangeet Manjusha to your wish list.

You Recently Viewed...